Saturday, April 18, 2009

हमें पता ना था जिन्दगी ये भी दिन दिखायेगी,
जिन्हें हमने जान से जादा चाहा, उन्हें हमारी ही चाहत रुलाएगी |

No comments: